[Letest] Swachh Bharat Abhiyan Essay In Hindi 2020 - Haqsesikho

        स्वच्छ भारत अभियान, एक ऐसा अभियान जिसने भारत देश का भविष्य परिवर्तित कर दिया अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत को एक नई पहचान दी देश में स्वच्छता की एक जागरूकता की नई सुबह प्रारंभ हुई ।

Swachh Bharat Abhiyan Essay In Hindi

      स्वच्छ भारत अभियान ने भारत में स्वच्छता को एक नया रूप दिया और हमें स्वच्छता के प्रति जागरूक किया आज से कुछ 5 से 6 वर्ष पूर्व की जो छवि थी वह बिल्कुल परिवर्तित हो चुकी है आज हर जगह पर स्वच्छता और जागरूकता बढ़ने लगी है ।
      ऐसे ही स्वच्छ भारत अभियान के लिए प्रति वर्ष विद्यालयों में तरह तरह की प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती है जिसमें Swachh Bharat Abhiyan Essay In Hindi की प्रतियोगिता अत्यधिक प्रचलित है बहुत सारे विद्यार्थी इस में लेते हैं और अपनी अपनी रचनाएं प्रस्तुत करते हैं ।
              अगर आपके स्कूल कॉलेज में भी Swachh Bharat Abhiyan Essay In Hindi की प्रतियोगिता है और आपने भी उसमें हिस्सा लिया है तो आपके लिए यह आर्टिकल बहुत ही लाभप्रद होने वाला है क्योंकि यहां पर मैंने कुछ खास निबंधों का कलेक्शन किया है जिन्हें आप उपयोग कर सकतेकी तो चलिए जानते हैं Swachh Bharat Abhiyan Essay In Hindi के बारे में ।

Swachh bharat abhiyan essay in hindi

Swachh bharat abhiyan essay in hindi

रूपरेखा - 

स्वछता को अपने आचरण में इस तरह बसा लो कि वो आपकी एक आदत बन जाये। यदि कोई व्यक्ति स्वच्छ नहीं है तो वह स्वस्थ्य नहीं रह सकता है।
                             – महात्मा गाँधी।

  1. प्रस्तावना -
  2. स्वच्छ भारत अभियान की आवश्यकता -
  3. स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत -
  4. स्वच्छ भारत अभियान के उद्देश्य -
  5. स्वच्छ भारत अभियान और वर्तमान स्थिति -
  6. महात्मा गांधी का सपना और अन्य योगदान -
  7. उपसंहार -
एक अकेले मोदी की बात नहीं है बल्कि मोदी तो बस 1.2 अरब लोगों में से एक है ये सब लोगो के मिलकर करने का काम है। – नरेंद्र मोदी

 यह भी सीखें - Teachers day speech in hindi

प्रस्तावना - स्वच्छ भारत अभियान भारत देश में स्वच्छता के प्रति आम जनता की जागरूकता को बढ़ानेे के लिए और भारत में स्वच्छता को एक अहम मुद्दा बनाने के लिए लोगों में स्वच्छता केे प्रति नई सोच पैदा करने के लिए स्वच्छछ भारत अभियान की शुरुआत की गई ।
            इस अभियान की जितनी तारीफ की जाए उतनी ही कम रहेगी क्योंकि इसने भारत को एक नई सुबह प्रदान कि, भारत को एक नया जीवन प्रदान किया, स्वच्छता के क्षेत्र में भारत को एक नहीं पहचान प्रदान की, आज किस वर्तमान स्थिति में हम देख सकते हैं कि भारत देश स्वच्छता में कितना आगे बढ़ चुका है हम सब ने स्वच्छता के मामले में बहुत ही अधिक तरक्की की है और बहुत ही अच्छी प्रगति भी की है ।
      बीते कुछ वर्षों की तुलना में अब स्वच्छता अधिक देखने को मिलती है लोगों में भी स्वच्छता के प्रति जागरूकता बढ़ गई है आज आम जनता में भी स्वच्छता को लेकर एक अलग सोच निर्मित हुई है और इस सब का श्रेय स्वच्छ भारत अभियान को जाता है ।

स्वच्छ भारत अभियान की आवश्यकता

        स्वच्छ भारत अभियान की आवश्यकता क्या है क्या हमें वास्तव में स्वच्छ भारत अभियान की आवश्यकता है यह प्रश्न बड़ा ही विचार नहीं है लेकिन इसका उत्तर भी उतना ही आसान है स्वच्छता एक ऐसा मुद्दा है जो हमारे देश में सदैव से ही आवश्यक रहा है आजादी के बाद से ही गांवों में और छोटे-छोटे कस्बों में खुले में शौच और अस्वच्छता के कारण कई बीमारियों को जन्म दिया जिसे नष्ट करने के लिए और देश की तरक्की के लिए स्वच्छ भारत अभियान की आवश्यकता रही हैं।
       विचार नहीं बात यह है कि हमें वास्तव में आवश्यकता जागरूकता की है आम जनता में स्वच्छता को लेकर भारत में इतनी जागरूकता देखने को नहीं मिलती थी जितनी कि आज देखने को मिलती है इसलिए हम यह बात तो क्या सकते हैं कि स्वच्छ भारत अभियान ने लोगों में जागरूकता तो फैलाई है और इसकी आवश्यकता हमें रही भी है आज हम छोटे-छोटे कस्बों और गांवों में भी स्वच्छता का नया रूप देखते हैं।

स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत

    2 अक्टूबर 2014 महात्मा गांधी की 145 वी जयंती और इसी दिन हमारे देश के तत्कालीन प्रधानमंत्री नरेंद्र जी मोदी ने शुरुआत की थी स्वच्छ भारत अभियान की और प्रारंभ हुई थी स्वच्छता की एक नई सुबह ।
        हमारे प्रधानमंत्री जी ने महात्मा गांधी के स्वच्छ भारत के सपने को ध्यान में रखते हुए स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत की थी और उन्होंने कहा था कि -
     आज 2 अक्टूबर 2014 को हम स्वच्छ भारत अभियान को शुरू कर रहे हैं और हमारा उद्देश्य महात्मा गांधी के सपने को साकार करना है और उनकी 150वीं जयंती तक भारत देश को स्वच्छ बनाना है।
             इसी के बाद से हमारे देश में स्वच्छछ भारत अभियान की शुरुआत कोई और हम सब ने स्वच्छता की ओर एक कदम आगे बढ़ाया और इस अभियान मेंं भी यह मुख्यय बात रखी गई - एक कदम स्वच्छता की ओर
          हमारे प्रधानमंत्री जी ने स्वयं स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत करते हुए झाड़ू को उठाकर स्वयं भी सफाई करते हुए इस जन दोलन को प्रारंभ किया ।जो वास्तव में प्रशंसा की बात है और इस प्रकार स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत हुई ।


स्वच्छ भारत अभियान के उद्देश्य

  हमारे तत्कालीन प्रधानमंत्री श्री नरेंद्रर मोदी जी ने स्वच्छ भारत अभियान के प्रमुख उद्देश्यय अपने स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत के भाषण में बताएं और इसमेंं मुख्य उद्देश्यय वास्तव मेंं आम जनता मेंं स्वच्छताके प्रति जागरूकता पैदा करना और एक नई सोच विकसित करना रहा इसके अलावा प्रमुख उद्देश्य है वह निम्न है ।

  1. गांवों एवं कस्बों में खुले में शौच पर रोक लगाना एवं लोगों को में खुले में शौच के प्रति जागरूकता लाते हुए शौचालयों का निर्माण करना ।
  2. करीबन 1 लाख 34 हजार करोड रुपए खर्च करके 11 करोड़ 11 लाख व्यक्तिगत एवं सामूहिक शौचालय का निर्माण करना ।
  3. लोगों में स्वच्छता के प्रति जागरूकता पैदा करना एवं नई सोच विकसित करना ।
  4. छोटे-छोटे कस्बों एवं गांवों को साफ एवं स्वच्छ रखना ।
  5. सड़क एवं फुटपाथ पर साफ सफाई रखना ।
  6. सार्वजनिक शौचालयों का निर्माण करना एवं शौचालय के उपयोग को बढ़ावा देना ।
  7. 2019 तक सभी शहरों तथा गांवों में पानी की पूर्ति करना और स्वच्छ जल पहुंचाना । 
  8. तरल एवं ठोस अपशिष्ट का सही निस्तारण करना और पर्यावरण को स्वच्छ रखना ।

स्वच्छ भारत अभियान और वर्तमान स्थिति

         स्वच्छ भारत अभियान ने भारत की वर्तमाान स्थिति मैं बहुत ही अधिक परिवर्तन किया हैैै आज हमारे देश में स्वच्छता के प्रति लोगोंं में एवं आम जनता में जागरूकताा अत्याधिक बढ़ी है एवं आज हम सभी मिलकर स्वच्छता को आगे बढ़ानेे का प्रयास करते हैं और अगर कोई गंदगी फैलाता हैैै तो हम आज उसे रोकते भी हैं और उसे समझाते भी है।
        अगर वास्तव में कहा जाए तो आज हम सब स्वच्छता के प्रति अत्यधिक जागरूक हो गए हैं और यह सब स्वच्छ भारत अभियान के कारण ही संभव हो पाया है । आज हमारी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर छवि बहुत ही परिवर्तित हुई है और भारत एक स्वच्छ और समृद्ध देश के रूप में उभरा है ।
             स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत किए गए प्रयासों ने शहरों को स्वच्छ बनाने एवं गांवों को भी स्वच्छ बनाने के लिए नगर पालिका एवं नगर निगमों को अत्याधिक प्रभावित किया और स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत होने वाली प्रतियोगिता ने भी शहरों को स्वच्छ बनाने और स्वयं कोस्थान पर लाने के लिए स्वच्छता में विशेष ध्यान दिया और आज इसका परिणाम हम सबके सामने हैं आज हमारी वर्तमान स्थिति बहुत ही परिवर्तित हुई है और हम स्वच्छता के क्षेत्र में अत्यधिक विकसित भी हुए हैं ।

महात्मा गांधी का सपना और अन्य योगदान

वास्तव में महात्मा गांधी का सपना रहा है कि भारत देश स्वच्छ हो और प्रत्येक मनुष्य स्वच्छता के प्रति जागरूक को स्वच्छता के महत्व को समझें और इसी प्रयास में वह सदैव लगे हुए रहते थे गांधी जी स्वयं भीसफाई एवं स्वच्छता का प्रचार प्रसार करते थे और लोगों को भी शौचालय के उपयोग और स्वच्छता के प्रति जागरूक करते थे ।
           उन्हीं के इस सपने को साकार करने के लिए हमारे प्रधानमंत्री जी ने स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत की थी और आज महात्मा गांधी का वह सपना पूरा होते हमें नजर आ रहा है हमने स्वच्छता के क्षेत्र में अत्याधिक तरक्की की है और भारत को एक स्वच्छ और स्वस्थ देश बनाया है ।
             स्वच्छ भारत अभियान में केवल एक व्यक्ति का योगदान नहीं है बल्कि यह तो पूरे देश का एक ऐसा अभियान है जिसमें सभी ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया है और अपनी अपनी तरफ से अपना योगदान दिया है एक छोटे से व्यक्ति ने भी स्वयं स्वच्छता को अपनाकर इस योगदान में एक बहुत बड़ी भूमिका निभाई है ।
      जहां हम सब ने मिलकर स्वच्छ भारत अभियान को सफल बनाने में प्रयास किया है तो वही स्वच्छ भारत अभियान के प्रचार-प्रसार हेतु नहीं बड़े फिल्म अभिनेता एवं टीवी अभिनेताओं ने भी प्रयोग किए हैं जिसमें तारक मेहता का उल्टा चश्मा की पूरी टीम और प्रियंका चोपड़ा महेंद्र सिंह धोनी विराट कोहली आदि ने स्वच्छता की ओर कदम बढ़ाते हुए इस अभियान का प्रचार प्रसार किया है जो वास्तव में सम्मानीय है ।
उपसंहार
          स्वच्छ भारत अभियान को हम जितना लोगों तक पहुंचाएंगे उतनी ही हमारी देश में स्वच्छता बढ़ेगी लोग स्वच्छता के प्रति जागरूक होंगे इसी बात को ध्यान में रखते हुए कई सारे विद्यालयों एवं कॉलेजों में प्रतिवर्ष स्वच्छ भारत अभियान को लेकर प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती हैं कई सारे प्रोग्राम रखे जाते हैं ताकि लोगों में जागरूकता पैदा हो ।
           सरकार द्वारा निरंतर यह प्रयास किया जा रहा है कि भारत की जनता स्वच्छता के प्रति अत्यधिक जागरुक हो और स्वयं भी स्वच्छता के महत्व को अन्य लोगों तक पहुंचाएं भारत विश्व में स्वच्छता भारत सर्वश्रेष्ठ स्थान को प्राप्त करें और अन्य देशों के लिए एक उदाहरण साबित करें ।
      और यह सब तभी संभव है जब हम सब स्वच्छता के महत्व को समझें स्वच्छ भारत अभियान को जन जन तक पहुंचाएं और इसके मूल उद्देश्य को पूर्ण करने का भरसक प्रयत्न करें हमारे प्रयास नहीं इस अभियान को सफल बना सकते हैं और हमारे प्रधानमंत्री और महात्मा गांधी के इस सपने को साकार कर सकते हैं वास्तव में स्वच्छ भारत अभियान हमारी आवश्यकता है और हमें अपनी इस आवश्यकता को पूर्ण करना है स्वच्छता को देश में लाना है तो चलिए साथ में बोलते हैं एक कदम स्वच्छता की ओर ।
   
          हम मंगल गृह पर पहुंच चुके हैं, कोई नेता या मंत्री या प्रधानमंत्री नहीं बल्कि ये लोगों द्वारा किया गया ।
            यह हमारे वैज्ञानिकों द्वारा किया गया। तो क्या हम मिलकर एक स्वच्छ भारत का निर्माण नहीं कर सकता।
                – नरेंद्र मोदी

Swachh Bharat Abhiyan Essay In Hindi 2020

Swachh Bharat Abhiyan Essay In Hindi 2020

प्रस्तावना - 2 अक्टूबर 2014स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत का दिन जब हमने एक ऐसा क्रांतिकारी आंदोलन प्रारंभ किया जिसमें हमारे देश का भविष्य ही बदल कर रख दिया आज हमारे सामने भारत की एक स्वच्छ और स्वस्थ सभी उपस्थित है जिसका पूरा श्रेय हमारे प्रधानमंत्री जी की मेहनत और आम जनता की जागरूकता हो जाता है और यह जागरूकता स्वच्छ भारत अभियान से आई है । 
                परंतु स्वच्छ भारत अभियान का उद्देश्य केवल भारी स्वच्छता नहीं अपितु आंतरिक स्वच्छता भी है स्वच्छता से हमारा आशय है मन की स्वच्छता और मन की स्वच्छता भारी स्वच्छता से ही आती है ऐसा कहा जाता है कि स्वच्छ घर में स्वस्थ मन का निवास होता है । 
      स्वच्छ भारत अभियान के कारण हुए परिवर्तन हमारे सामने आज उभर कर बाहर आ रहे हैं इस अभियान में प्रत्येक वर्ष एक शहर को चुना जाता है जो सबसे स्वच्छ साल में रहा हो और विगत 3 वर्षों से मध्य प्रदेश का इंदौर शहर इसमें प्रथम स्थान पर आ रहा है । और इस से सीख लेकर बहुत सारे शहर अब अपने अंदर परिवर्तन ला रहे हैं उनमें स्वच्छता को बढ़ावा दे रहे हैं स्वच्छ भारत अभियान से सीखने वाली बात यह है कि कुछ भी असंभव नहीं है भारत जैसे बड़े देश में इस तरह के अभियान को चलाना वाकई में बड़ी मुश्किल बात है लेकिन हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र जी मोदी ने यह करके दिखाया और हमारे देश को स्वच्छ बनाया ।
‌            हमें भी अपनी तरफ से अपना कर्तव्य निभाना चाहिए और स्वच्छ भारत अभियान को और अधिक सफल बनाने के लिए हमसे जो प्रयास होता है हम जितना प्रयत्न कर सकते हैं करना चाहिए प्रयत्न करना आसान है आप बस अपने घर सड़क आसपास के गार्डन पार्क बगीचे आदि को स्वच्छ रखें कोई गंदगी फैला है तो उसे मना करें उसे समझाएं हो सकता है वह आपकी बात ना समझे लेकिन यह भी हो सकता है कि वह आपकी बात समझ जाए अगर आप केवल एक व्यक्ति को भी स्वच्छता का महत्व समझा देते हैं तो आप स्वच्छ भारत अभियान में अपना एक महत्वपूर्ण कदम आगे बढ़ा चुके होते हैं अपने देश के लिए बहुत ही अच्छा काम किया होता है जो सराहनीय है ।

उपसंहार - स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत 2 अक्टूबर 2014 को की गई थी और इसे 5 वर्ष के लिए लागू किए जाने वाला अभियान बनाया था 5 वर्ष बाद याने कि महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर इस अभियान का समापन रखा गया था चाहे भले ही अभी इस अभियान की कार्य विधि समाप्त हो चुकी हो लेकिन इस अभियान ने जो स्वच्छता की आग हमारे अंदर उत्पन्न की थी जो जागरूकता की लहर लोगों में प्रवाहित की थी वह आज भी और आने वाले समय में भी लोगों के मन में रहेगी और व स्वच्छता के प्रति जागरूक बने रहेंगे ।
           तारीख के लिए जब जान भले ही समाप्त होने वाला हो या समाप्त हो चुका हो लेकिन जनता के दिलों में और मन में यह बयान आज भी जीवित है और सरकार द्वारा भी इस पर निरंतर कार्य किया जा रहा है निरंतर स्वच्छ भारत को लेकर ठोस कदम उठाए जा रहे हैं कानूनों का निर्माण हो रहा है प्रतियोगिताएं आयोजित की जा रही हैं बच्चों से लेकर बड़ों सनी में इस अभियान को लेकर जागरूकता पैदा की जा रही है जो अत्यंत सराहनीय है आज बस हमारा यह कर्तव्य है कि हम अपने आसपास के क्षेत्र को स्वच्छ रखें जैसा हम अपने घर को स्वच्छ रखते हैं वैसा हम अपने सड़कों एवं बगीचों को भी रखें क्योंकि जय देश हमारा है और हम इस देश के नागरिक हैं देश को आगे बढ़ाना हमारा कर्तव्य है तो चलिए साथ में आगे बढ़ते हैं और बढ़ाते हैं एक कदम स्वच्छता की ओर ।
               दोस्तों मुझे उम्मीद है आपको यह निबंध पसंद आए होंगे और उनसे कुछ नया जरूर सीखने को मिला होगा आप ही निबंध का उपयोग अपने स्कूल की प्रतियोगिताओं में कर सकते हैं अपने कॉलेज की प्रतियोगिता में कर सकते हैं और साथ ही साथ swachh Bharat abhiyan essay in Hindi कि प्रतियोगिता में भी कर सकते हैं।  आपका इस पोस्ट को पढ़ने के लिए और अपना अनमोल समय देने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद ।
       लेखक - रोहित भाटि

Post a comment

0 Comments